दूल्हे ने दहेज में 11 लाख लेने से मना इंकार, कहा- पैसा नहीं संस्कारी लड़की चाहिए

googleimage

पोकरण: अच्छी पढ़ाई के बाद अच्छी नौकरी मिलने पर युवक को शादी में मोटा दहेज मिलने की बात अक्सर सामने आती है। लेकिन पोकरण में एक राजपूत दूल्हे ने दहेज टीके में 11 लाख 25 हजार रुपए लेने से मना कर दिया। इसके साथ ही उसने ससुराल पक्ष द्वारा दिए जाने वाले दहेज के बाकी सामान लेने से भी मना कर दिया।

नखतसिंह भाटी ने दहेज वापस लौटाकर समाज में मिसाल पेश की है। उनका कहना है कि उनका पूरा परिवार दहेज प्रथा के खिलाफ है। उन्हें परिवार चलाने वाली शिक्षित और संस्कारी लड़की चाहिए, न कि दहेज।

जोधनगर में रहने वाले नखतसिंह भाटी के पुत्र राजेंद्र सिंह की शादी जोधपुर के काकोणी गांव निवासी आनंद सिंह चंपावत की बेटी के साथ होनी थी। शुक्रवार को बारात चंपावत के घर पहुंची थी। ससुराल पक्ष ने उन्हें टीके में शगुन के तौर पर दहेज में 11 लाख 25 हजार रुपए से भरा थाल देना चाहा तो पिता-पुत्र ने कहा कि उनका परिवार दहेज के खिलाफ है।

 

Comments are closed.