मुंबई से पालघर तक जोरदार जोरदार बारिश


आर.पी.मौर्या संवाददाता
मुंबई। शुक्रवार की सुबह मुंबई से पालघर और इनके आसपास के इलाकों में जोरदार बारिश हो रही है और इसके कारण शहर के कई निचले इलाकों में पानी भर गया है । बारिश में अंधेरी,जोगेश्वरी, बोरिवली, दादर, घाटकोपर, मुलुंड, चर्चगेट, पवई, वसई,नालासोपारा,बोरीवली,मीरा-भायंदर और पालघर समेत कई इलाकों में सड़कों पर घुटनों तक पानी भर गया है । जिससे सड़कों पर लंबा जाम भी लग चूका है ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बारिश के चलते रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की भीड़ लगी है और वहीं सड़कों पर पानी भरने के कारण ऑफिस जाने वालों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। फिलहाल बारिश से मुंबई की लाइफलाइन लोकल पर कोई खास असर नहीं दिखाई दे रहा है। सुबह से हो बारिश से मुंबई के लोगों को उमस भरी गर्मी से राहत मिली है। जबकि सेंट्रल लाइन पर ट्रेनें 30 मिनट तक की देरी से चल रही हैं। वेस्टर्न रेलवे ने ट्वीट में लिखा है, ‘मुंबई में मॉनसून आ गया है। वेस्टर्न रेलवे के उपनगरीय इलाकों में कुछ जगह भारी बारिश हो रही है। लोकल ट्रेनें सामान्य रूप से चल रही हैं और उनके संचालन में कोई व्यवधान नहीं आ रहा है।’

मौसम एजेंसी स्काईमेट का अनुमान है कि अगले 48 घंटे में मुंबई में 100 मिमि तक बारिश हो सकती है। मुबई के अलावा, अलीबाग, कोल्‍हापुर, सबअर्बन, नागपुर, पालघर, पुणे, रायगढ़, रत्‍नागिरी, सांगली, सतारा, सिंधुदुर्ग और ठाणे में भी भारी बारिश का अनुमान है। मौसम विभाग के मुताबिक, गुरुवार सुबह 8 बजे से शुक्रवार सुबह 8 बजे तक राज्य में सबसे ज्यादा नासिक में 374.5 मिमी बारिश दर्ज हुई है।

मुंबई में स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज सिस्टम बेहद जटिल है। इससे नालियां, नाले, नदियां, खाड़ी, तालाब शामिल हैं. मुंबई का ड्रेनेज सिस्टम प्लास्टिक और कचरे से चोक हो जाता है। जिससे सड़कों पर जमा पानी धीरे-धीरे निकलता है। मुंबई के उपनगरीय इलाकों की सड़कों के नीचे 2000 किमी लंबा ड्रेन सिस्टम है। इससे जुड़ती हैं – 440 किमी लंबी छोटे-छोटे द्वीपों के ड्रेनेज, 200 किमी बड़े और 87 किमी छोटी नहरें और 180 मुहाने (नदी, नालों के) ये सब गिरते हैं अरब सागर में अरब सागर में इनका मिलान होता है तीन जगहों से – पहला माहिम की खाड़ी, दूसरा माहुल की खाड़ी और तीसरा थाणे की खाड़ी। इसके अलावा मुंबई की मीठी नदी जो सिर्फ बारिश में ही दिखाई पड़ती है. यह नदी भी उफान पर आने के बाद कहर बरपाती है।

Comments are closed.