रात 9 बजे पति ने हाईवे से टर्न की बाइक, पत्नी ने पूछा- कहां ले जा रहे हो, कुछ दूर जाकर साइड में खड़ी कर दी बाइक, फिर…

google image

मुरैना: जिले के जीगनी-खेड़ा के बीच एक महिला की हत्या कर उसके जेवरात लूट लिए गए। महिला पति के साथ बाइक से अपने मायके से ससुराल मुरैना आ रही थी। घटना बुधवार रात 9 बजे की है। लूट और महिला की गोली मारकर हत्या के सनसनीखेज मामले में 10 घंटे तक चकरघिन्नी रही पुलिस को गुरुवार सुबह 10.35 बजे तब सुकून मिला जब आरोपी पति ने यह कुबूल कर लिया कि पत्नी की हत्या उसने ही की है। पहले पति दो बदमाशाें पर लूट और हत्या का आरोप लगा रहा था। उस पर संदेह न हो, इसलिए उसने कट्‌टे से गोली मारकर खुद को भी जख्मी कर लिया था, लेकिन पुलिस की सख्ती से वह टूट गया। माता बसैया पुलिस ने खुलासे के बाद घटनास्थल से हत्या में प्रयुक्त 315 बोर का कट्‌टा, सोने का मंगलसूत्र, झुमकी व जंजीर को जब्त कर लिया है।

जानकारी के मुताबिक, शहर की केशव कालोनी में रहने वाला देवकीनंदन शर्मा (27) बुधवार को अपनी पत्नी मनोरमा को उसके मायके से विदा कराकर बाइक से ला रहा था। बीच रात 9 बजे आरोपी पति अपनी बाइक हाईवे से टर्न कर ली। यह देख पत्नी ने पूछा- मुझे कहां ले जा रहे हो। देवकीनंदन ने गुस्से में आकर मनाेरमा को गोली मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई। पत्नी की हत्या के बाद आरोपी ने उसके शरीर से सोने की जंजीर, मंगलसूत्र, कानों की झुमकी लूट ली। इसके बाद आरोपी ने उसी कट्‌टे से अपने पेट के बाएं तरफ इस प्रकार गोली मारी कि गनशॉट से सिर्फ उसकी चमड़ी ही जल पाई। यहां से वह जींगनी पहुंचा और डायल 100 को लूट की कहानी सुनाते हुए दो बदमाशों द्वारा पत्नी को गोली मारने की बात कही। पति ने अपनी बाइक को घटनास्थल पर छोड़ दिया। साथ ही हत्या में प्रयुक्त 315 बोर के कट्‌टे को भी उसने खेत में फेंक दिया। पत्नी के शरीर से लूटे गए सोने के जेवरात को आरोपी पति ने कागज के एक टुकड़े में बंद कर पेड़ के नीचे छिपा दिया।

एफएसएल अधिकारी डॉ. अर्पिता सक्सेना के इन्वेस्टिगेशन में यह तथ्य सामने आया है कि आरोपी ने मनोरमा को एक फीट दूरी से गोली मारी है जो उसके पेट में जा लगी। लेकिन घटनास्थल पर ब्लड के कोई निशान देखने को नहीं मिले। इससे जाहिर है कि गनशॉट के बाद ब्लड केविटी में जमा हो गया होगा।

मनोरमा 10 फरवरी को मायके में अपने चाचा की बेटी की गोदभराई के कार्यक्रम शामिल होने गई थी, तब से अब तक वह मायके में ही थी। देवकी बुधवार शाम 4.30 बजे ससुराल पहुंचा और शाम पांच बजे मनोरमा को साथ लेकर बाइक से निकल आया था।

मनोरमा के मायके पक्ष के लोगों का कहना है कि उनकी बेटी की शादी 18 अप्रैल 2016 को देवकीनंदन के साथ की गई थी। देवकी स्वभाव से जिद्दी है और मनाेरमा पर दबाव बनाकर रखता था। बेटी को बीते पौने तीन साल में कोई संतान नहीं हुई तो पति सहित ससुराल पक्ष के लोग उसे उपेक्षा की नजर से देखते थे। मनोरमा की मौत का कारण संभवत: यही रहा है।

मनोरमा शर्मा के मर्डर व लूट के मामले में आरोपी पति देवकीनंदन शर्मा ने जुर्म कर लिया है। गिरफ्तार आरोपी पति के खिलाफ हत्या व लूट का अपराध दर्ज किया गया है।

Comments are closed.