मैं बोल दूंगा तो शर्मिंदा हो जाएंगे: प्रशांत किशोर


पटना। नीतीश ने महागठबंधन में वापसी के लिए कई बार अपने विश्वासपात्र प्रशांत किशोर को उनके पास दूत बनाकर भेजा था। लालू के इस दावे के बाद जेडीयू के उपाध्यक्ष प्रशांत ने उनपर हमला बोला है। प्रशांत ने कहा कि लालू का दावा झूठा है। प्रशांत ने स्‍वीकार किया कि वह जेडीयू में शामिल होने से पहले कई बार लालू यादव से मिले थे लेकिन अगर वह यह बता दें कि इस मुलाकात में क्‍या बातचीत हुई तो आरजेडी सुप्रीमो शर्मिंदा हो जाएंगे।

लालू यादव के दावे के बाद शुक्रवार को पीके ने ट्वीट कर अपनी सफाई दी। उन्‍होंने कहा, ‘लालू यादव का दावा झूठा है। यह एक नेता के चर्चा में रहने का यह केवल घटिया प्रयास है जिसके अच्‍छे दिन गुजर चुके हैं। हां, मेरे जेडीयू में शामिल से होने से पहले हम कई बार मिले थे लेकिन मैं अगर यह बता दूं कि किन बातों पर चर्चा हुई थी तो वह (लालू यादव) बुरी तरह से शर्मिंदा हो जाएंगे।
इससे पहले आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने दावा किया था कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार महागठबंधन में वापसी चाहते थे, लेकिन उन्होंने मना कर दिया क्योंकि नीतीश पर उनका भरोसा पूरी तरह खत्म हो गया। लालू ने कहा था कि नीतीश ने यह कवायद महागठबंधन को छोड़कर बीजेपी के साथ जाने के छह महीने के अंदर ही की थी।

Comments are closed.