पीएम मोदी की धमकी से डरा ‘पठान का बच्चा’


सौरभ सिंह
नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ पर हुए आत्मघाती हमले के बाद भारत सरकार के कड़े रुकर से डरे-सहमे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने शांति के लिए एक और मौके की मांग की है। खान की ओर से जारी बयान में कहा गया कि वह अपनी जुबान पर ‘कायम’ हैं और अगर भारत की ओर से पुख्ता सबूत दिया जाता है तो वह शख्त कार्रवाई करेंगे।

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री का यह बयान भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस चेतावनी के बादा आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘नया भारत’ पुलवामा हमले को भूल नही सकता, इसका बराबर हिसाब होगा। पीएम मोदी राजस्थान में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि, भारत पुलवामा हमले के दोषियों को नहीं छोड़ेगा।
पीएम मोदी ने कहा था कि जब इमरान खान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने थे, तब उन्होंने बधाई के लिए फोन किया था। उस समय खान ने खुद को पठान का बच्चा बताते हुए गरीबी और शिक्षा के मुद्दे पर साथ मिलकर काम करने की बात की थी, लेकिन वह अपनी बातों से पलट गए।
गौरतलब हो कि इससे पहले 19 फरवरी को इमरान खान ने पुलवामा हमले पर भारत सरकार के कड़े रूख पर पलटवार करते हुए कहा था कि, अगर भारत ने कोई जवाबी हमला किया तो करारा जवाब देंगे। हालांकि उन्होंने यह भी कहा था कि अगर पुलवामा हमले में जैश-ए-मोहम्मद का हाथ होने के पुख्ता साक्ष्य मिलते हैं तब कार्रवाई करेंगे। बता दें कि पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने सीआरपीएफ पर हमले की जिम्मेदारी ली है।

Comments are closed.