गुजरात में सी.ऐम विजयभाई रूपाणी के द्वारा विजय संक्लप संमेलन की शूरूआत


प्रणवसिंह, ब्यूरो चीफ
मुख्यमंत्री विजयभाई रूपानी ने आज मेहसाणा में आयोजित भाजपा के विजय विश्वास संमेलन को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस ने 55 वर्षों तक देश में शासन किया है। देश का भला करने के बजाय केवल एक परिवार को पुरस्कृत किया गया है।
घोटालों, हताशा, निराशा, अराजकता, आतंकवादी हमलों और नीतिगत पक्षाघात के कारण कांग्रेस शासन में भारत की प्रतिष्ठा का विक्ष्व में बेहाल हुआ। पांच वर्षों में, नरेंद्रभाई के शासनकाल में नई चेतना प्रकट हुई है। जो संभव नहीं था अब संभव है। इससे पहले मुंबई, अयोध्या, दिल्ली, अहमदाबाद, जयपुर आदि में बम विस्फोट हुए थे। कोई कार्रवाई नहीं की गई।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलवामा में हमले के बाद कहा कि “मैं किसी को नहीं छोड़ूंगा” और सेना को सत्ता में लाने के लिए कश्मीर सहित पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई के लिए एक अलग लाइन दी। आज लोगों को ‘मोदी है तो मुम कीन है’ की सुरक्षा का एहसास हुआ है।
कंधहार कांड की दुर्दशा पर कांग्रेस को कडां रूख दीखाते हुऐ रूपानी ने कहा कि कांग्रेस द्वारा पूर्व कांग्रेस शासन के अपहरण में मुफ्ती मोहम्मद सईद और गुलाम नबी आजाद के रिश्तेदारों को छुड़ाने के लिए आतंकवादियों को मुक्त करवाया गया था। कंधार का निर्णय सर्वदलीय बैठक में लिया गया। कांग्रेस इस संबंध में झूठ फैलाना बंद कर देगी।
महागठबंधन पर उन्होंने कहा कि ये लोग एक आम चाय वाले के प्रधानमंत्री बनने से अच्छां महेशूश नही करते। जातिवाद, झातिवाद वंशवाद और भाई-भतीजावाद को बडा़वा देने वालै आज ‘मोदी को हटावो के नारे के साथ एकजुट हैं। हमारा लक्ष्य गरीबी को खत्म करना, आतंकवाद को दूर करना और भ्रष्टाचार को दूर करना है।
नरेन्द्र मोदी की सरकार ने गरीबों के लिए काम किया है। इस योजना के तहत, घरों में बिजली, जनधन योजना, उजवला योजना के तहत गैस कनेक्शन और लाखों किसानों को लाभार्थी के जीवन सिधी पूजी जमा करवाई है।
कांग्रेस शासन में गुजरात के साथ हुए अन्याय को याद करते हुए उन्होंने कहा कि सात साल तक नर्मदा गेट को मंजूरी नहीं मिली थी। नरेंद्रभाई ने केवल 17 दिनों में मंजूरी दी और नर्मदा का काम पूरा किया। 10,000 करोड़ रुपये की निकासी करके रॉयल्टी और रॉयल्टी के सवाल को हल किया।
गुजरात को एम्स देने के अलावा धोलेरा के लिऐ 3000 कराेड राष्ट्रीय राजमार्ग के काम का दीया । बुलेट ट्रेन परियोजना को 10,000 करोड़ रुपये की लागत से शुरू किया गया है। इससे पहले, गुजरात में कांग्रेस द्वारा किए गए अन्याय का न्याय हुआ।

Comments are closed.