वसई-विरार में जाम ही जाम


आर.पी.मौर्या संवाददाता
वसई। वसई-विरार शहर में यातायात व्यवस्था चरमरा गई है और यहां सड़क पर फेरीवालों का कब्जा है, यातायात पुलिस ट्रैफिक नियंत्रित करने में असफल साबित हो रही है, जिसके कारण सड़कों पर ट्रैफिक का तमाशा बन गया है। शहर के लोग मिनटों की दूरी ट्रैफिक जाम के कारण घंटों में तय करने को मजबूर हैं। वसई-विरार में आबादी तेजी से आगे बढ़ रही है। इसे देखते हुए यातायात की समस्या खड़ी हो गई है। आरोप है कि मनपा और पुलिस प्रशासन की लापरवाही से शहर में लंबा जाम लग जाता है, जिसके कारण मिनटों की दूरी घंटों में तय हो रही है।

बता दे कि अक्सर शाम होते ही क्षेत्र के विरार-पूर्व स्टेशन परिसर, नालासोपारा-पूर्व आचोले रोड, तुलिंज रोड, वसई-पश्चिम अंबाडी रोड, स्टेशन रोड, वालीव, संतोष भुवन, विरार-पश्चिम, आनंद नगर समेत पूरे इलाके में अवैध फेरीवाले सड़क पर अपना कब्जा जमाए रहते हैं। दूसरी तरफ ऑटोरिक्शा सड़क जाम का कारण बने रहते हैं। करीब ३० से ३५ लाख की आबादीवाले तालुका का ट्रैफिक नियंत्रण मात्र ७५ पुलिसकर्मियों के भरोसे है। वर्ष २०१७ में वसई-विरार में सिग्नल व्यवस्था की शुरुआत की गई थी, जिससे शहर में ट्रैफिक समस्या से निजात मिल सके लेकिन ज्यादातर जगहों पर सिग्नल खराब हैं तो कुछ जगहों पर इसका पालन ही नहीं किया जाता, जहां लोग मनमाने तरीके से वाहन चलाते हैं और सड़कों पर जाम की समस्या बनी रहती है।

Comments are closed.