संकट से उबर सकती है जेट एयरवेज


जेट एयरवेज को मुश्किल से उबारने के लिए सोमवार को एतिहाद एयरवेज के CEO टोनी डगलस की एसबीआई के अधिकारियों से बातचीत की जा रही है। अधिकारियों के बीच होने वाली बातचीत से उम्मीद की जा रही है कि आपसी सहमति से रिजोल्यूशन प्लान के गतिरोध को दूर किया जाएगा। बैंकों के प्रस्तावित प्लान के मुताबिक एतिहाद एयरवेज को 750 करोड़ रुपये की रकम तुरंत निवेश करनी थी। बदले में बैंक भी एयरलाइन में उतनी ही रकम डालने वाले थे।

एतिहाद एयरवेज को इस बात पर ऐतराज है कि डेढ़ से दो हज़ार करोड़ रुपये के नए निवेश के बाद भी जेट एयरवेज में हिस्सेदारी 25 प्रतिशत से कम ही रहेगी। ऐसे में एतिहाद एयरवेज को ओपन ऑफर लाने से रियायत नहीं मिल पा रही है। दरअसल सोमवार को होने वाली बातचीत इस मायने में भी अहम है क्योंकि जेट के प्रमोटर नरेश गोयल ने कर्मचारियों को लिखी चिट्ठी में 18 मार्च तक हल निकलने का भरोसा दिया था। इस बीच नकदी की तंगी की वजह से उड़ानों पर असर पड़ रहा है। जेट के जहाज लगातार ग्राउंडेड हो रहे हैं।

Comments are closed.