जेट कर्मचारियों ने जुटाए 3000 करोड़ रुपये


एयरलाइन कर्मचारियों के एक समूह ने एसबीआई को पत्र लिखकर मांग की है कि कंपनी के प्रबंधन नियंत्रण हेतु बोली लगाने के लिए कर्मचारियों और बाहरी निवेशकों के एक संघ को अनुमति दी जाए। कर्मचारियों के प्रतिनिधि ने कहा कि उन्होंने बाहरी निवेशकों से 3,000 करोड़ रुपये की निधि जुटाई है।

सोसाइटी फॉर वेलफेयर ऑफ इंडियन पायलट्स (एसडब्ल्यूआईपी) और जेट एयरक्राफ्ट मेंटनेंस इंजीनियर्स वेलफेयर एसोसिएशन (जेएएमईडब्ल्यूए) के संघ ने यह प्रस्ताव भेजा है। संघ ने वादा किया है कि कर्मचारी अपनी भविष्य की कमाई को एयरलाइन में लगाएंगे तथा उत्पादकता बढ़ाएंगे।

उन्होंने कहा कि यह निर्णय कंपनी के विभिन्न कर्मचारी समूहों के साथ व्यापक चर्चा के माध्यम से लिया गया था, साथ ही उन सहयोगियों से भी सलाह-मशविरा किया गया है, जो अतीत में विभिन्न वरिष्ठ प्रबंधन पदों पर रहे हैं।

प्रस्ताव पत्र में कहा गया है, “हम मानते हैं कि एयरलाइन के साथ विरासत में मिले मुद्दे शामिल हैं, जिसमें उच्च परिचालन लागत, कर्मचारियों की जरूरत से अधिक संख्या, प्रतिकूल विक्रेता/पट्टे समझौते, और प्रतिकूल कर्ज/इक्विटी अनुपात शामिल हैं।

Comments are closed.