अधोघ्या में मंदिर का निर्माण करके भगवान राम का वनवास समाप्त करना चाहिए :-शिवसेना


आर.पी.मौर्या संवाददाता
मुंबई। अयोध्या से लौटने के बाद शिवसेना के मुखपत्र सामना में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा फिर से उठाया है। मंगलवार की सम्पादकीय में लिखा गया है कि लोकसभा में सरकार के पास 350 एमपी हैं। ऐसे में केंद्र सरकार को राम मंदिर निर्माण का काम जल्दी शुरू कर देना चाहिए और अधोघ्या में मंदिर का निर्माण करके भगवान राम का वनवास समाप्त करना चाहिए।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने रविवार को अपनी पार्टी के 18 सांसदों के साथ अयोध्या पहुंचकर रामलला का दर्शन किया और इसी के साथ उन्होंने राम मंदिर की बात आगे बढ़ने की बात भी कही थी। इससे पहले शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने पिछले साल नवंबर में अपनी अयोध्या की यात्रा के दौरान राममंदिर निर्माण की मांग की थी।

सामना ने शिवसेना की अयोध्या यात्रा से पहले उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की यात्रा के बारे में भी लिखा गया है और मौर्य ने आयोध्या में कहा था कि राम जन्म भूमि में राम मंदिर निर्माण के दो रास्ते हैं, मुस्लिम पक्षकारों से वार्ता के जरिए और सुप्रीम कोर्ट के जरिए। यदि ये दोनों रास्ते असफल रहते हैं, तब अध्यादेश लाकर राम मंदिर का निर्माण हो सकता है।

शिवसेना का कहना है कि बातचीत के सभी प्रयास असफल हो चुके हैं. लोकसभा में सरकार को 350 का बहुमत राममंदिर निर्माण के लिए मिला है। सरकार को राम मंदिर के निर्माण के लिए आगे बढ़ना चाहिए। अयोध्या में राममंदिर का निर्माण द्वारा भगवान का वनवास समाप्त होना चाहिए।

Comments are closed.