इथोपियन विमान क्रैश में भारत की बिटिया की भी हुई मौत

google image

नई दिल्ली: इथोपियन एयरलाइंस के विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने में मारे गए 157 लोगों में आंध्र प्रदेश की एक युवा डॉक्टर भी शामिल हैं, जो अमेरिका में बस गई थीं। नुकावरापु मनीषा का संबंध मूल रूप से गुंटूर जिले से था। वह अपनी बहन से मिलने नैरोबी जा रही थीं।

वह अपने माता-पिता वेंकटेश्वर राव और भारती से भी मुलाकात करना चाहती थीं, जो अपनी बड़ी बेटी के साथ थे।

मनीषा के एक संबंधी ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट कर कहा कि उनके माता-पिता नैरोबी में उनके शव के लिए इंतजार कर रहे हैं। इम पर मंत्री ने जवाब दिया कि उन्होंने नैरोबी में भारतीय उच्चायुक्त राहुल छाबड़ा से सभी तरह की मदद देने को कहा है।

बोइंग 737 विमान के रविवार को दुर्घटनाग्रस्त होने में चार भारतीय मारे गए हैं। यह दुर्घटना इथोपिया की राजधानी अदिस अबाबा से बोइंग के उड़ान भरने के कुछ देर बाद हुई।

गुंटूर मेडिकल कॉलेज से मेडिसीन करने के बाद मनीषा उच्च अध्ययन के लिए अमेरिका चली गईं और टेनेसी में बस गईं। वो ईस्ट टेनेसी स्टेट यूनिवर्सिटी के क्विलिन कॉलेज ऑफ मेडिसिन के डिपार्टमेंट ऑफ इंटरनल मेडिसिन के रेजिडेंट डॉक्टरों में से एक थीं।

Comments are closed.