वसई-विरार में महावितरण अधिकारिओ की मनमानी से जनता परेशान


आर.पी.मौर्या
वसई । महाराष्ट्र स्टेट इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (MSEDCL) के कर्मचारियों द्वारा बिजली के मीटर उखाड़ ले जाने की सूचना मिलते ही उन्होंने पहले अपना बिल चेक किया तो पाया कि उसके मौजूदा बिल के पेमेंट की अंतिम तिथि आगामी 11 अप्रैल को है। इसके बावजूद MSEDCL पैसे के लालच में कितनो को धमकाते है और एक पंखे,लाइट बिल का बिल भी ज्यादा लगाकर दिया जाता है। MSEDCL नालासोपारा, वसई, नायगाव और कितने जगहों से सिर्फ मनमानी गरीबो को धमकाने लाइट के बिल भरने की आतिम तारीख के पहले ही उनका मीटर कटना और कितने काम करती है सर्वे में जानकारी मिली है की वह से लाइट बिल MSEDCL के अधिकारिओ से सिर्फ मीटर पास भी किया जाता है
आपको बता दें कि वसई विरार क्षेत्र में बिजली विभाग द्वारा कई तरीकों की अनियमितताएं देखने को मिलती रही हैं। जिसमे मुख्यतः बिजली बिल का अचानक बढ़ जाना ,समय से पहले ,बिना किसी नोटिस या पूर्व सूचना के बिजली काट देना, उपभोक्ता अधिकारों के तहत बिजली विभाग द्वारा निर्धारित नियमों के विरुद्ध जाकर हर महीने बिजली काटना , कटियामरों और आंकड़ेंबाजों को सह देकर निजी लाभ कामना इत्यादि जैसे गंभीर अनियमितताओं से कपङे उपभोक्ताओं का शोषण करती आ रही है।
समय समय पर पत्र पत्रिकाओं अखबारों इत्यादि में छपी खबरों तक को आला अधिकारी नजर अंदाज करते करते है और कोई रिपोर्ट या को न्यूज़ संपादक ऑफिस में मिलाने की कोसिस भी करता है तो उनके लिए उनके पास समय नहीं होता है।

Comments are closed.