सेडवा के ग्राम पंचायत पूजासर में सड़क निर्माण में लाखों का गफला

बाड़मेर भ्र्ष्टाचार आज के समय हर जगह होंना जैसे कोई आम है।फिर कार्यलय चाहे सरकारी हो या फिर गैर सरकारी पर यहां तो मामला कुछ और ही है।
बाड़मेर जिले की सेड़वा तहसील से लगभग पच्चास किलोमीटर बसा है।एक गांव जिसका नाम है पूजासर यहां के लोग इतने बोले भाले है।कि कोई अगर इनको ये आकर बोले कि आपके आधार कार्ड या राशन पेन कार्ड दे दो तो आप को कोई सरकारी योजना से जोड़े।
जिहा इस बात का फायदा यहाँ के सरपंच साहब ने उठाया वैसे गांव के सरपंच का काम उसका भाई देख रहा है।और उसी देखा रेखी में पूरे गांव को ही रेख दिया
सरकारी एव मनरेगा निर्माण के पूर्व बीते वर्ष बजट में गांव को एक ग्रेवल सड़क मिली जिसका निर्माण कार्य पूरा तो करे सो करे पर जिनके यहाँ मुस्ट्रलरोल लगे उन्हें तो ये सड़क पैदल ही पड़ी पूजासर में इसके अलावा और भी कई सरकारी योजनाए है।जिनमे ऐसे घोटाले हुए टाका निर्माण से लेकर शौचालय तक
सड़क बनी ही नही बजट उठा लिया
सड़क कार्य का निर्माण बीते वर्ष की लास्ट महीने में प्रारंभ कर इस साल के पहले महीने तक प्रारम्भ करना था।परन्तु जहाँ सड़क बननी थी उस जगह जैसी पहले थी अभी का नजारा वैसा ही है।सरपंच का कार्य देखने वाले उसके भाई एव ग्राम सेवक दोनों की मिली भगत से पूर्व में पूजासर से मुहीब का तला तक कि सड़क बजट उठा लिया परन्तु उस जगह पर अब तक एक बजरी का कंकर भी ही डाला और आज इस प्रक्रिया को कई महीने बीत जाने के बाद वहां सिर्फ रेत के टीले ही नजर आते है।
फर्जी मुस्ट्रल रोल भर गांववाले के नाम से उठा लिए पैसे
सरपंच का कार्य भार देखने वाले उसके भाई ने प्रत्येक गांव वाले से ऐसी साठ बन्दी की कोई सोच भी नही सकता गांव वालों से सड़क निर्माण कार्य के लिए मुस्ट्रल रोल भरने के लिए कइयों से जॉब कार्ड राधन खाता डायरी लेकर उनके नाम के मुस्ट्रल भर कर बजट जनाब खुद हजब कर गए और गांव वाले को जब पता चला कि उनके खाते सड़क निर्माण कार्य बाबत कोई पैसा नही आया और मनरेगा एव सरकारी कागजो में यहां के सड़क निर्माण कार्य को पूर्ण बता कर सरपंच और ग्रामसेवक ने अपनी जेब भर ली
अब भाड़ में जाए ग्रामीण पूजासर गांव के लोग जिनके इस काम मे मुस्ट्रल रोल भरे गए जब बैंक की डायरिया चेक की तो इस कार्य बाबत उनके खाते में एक रुपया भी नही आया इस पर समस्त ग्रामीणों ने इसका विरोध जताया परन्तु इनकी सुने तो कौन राजनीतिक पहुँच इनको आगे आने दे तब ना
ग्रामीणों का क्या कहना
हमारे पूरे पूजासर ग्राम के साथ धोखा किया है।पर हम क्या करे ये सड़क निर्माण क्या यहाँ सब कार्यो में घोटाले हो रहे है।और हर किसी भी काम कोई भी पैसा नही मिल रहा है। फिर वो चाहे आवास हो टांका निर्माण हो हमारी सरकार से विनती है।कि हमारी मदद करे।

Comments are closed.