नक्सल हिंसा से पीड़ित जोड़े ने पतनेश्वरनाथ मंदिर में रचाई शादी,प्रशाशन बना गवाह


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-नक्सल हिंसा से पीड़ित जोड़े ने जिले के मलयपुर स्थित पतनेश्वर नाथ मंदिर में सुरक्षा के बीच बुधवार कोशादी रचाई।दोनो ने प्रशाशन की मौजूदगी में एक दूसरे के गले में वरमाला डाल कर सात फेरे लिए।इस शादी की खास बातें यह थी कि नक्सली हिंसा से पीड़ित परिवार के बेटी की शादी में जिला प्रशाशन के आलाधिकारियों ने आर्थिक मदद कर सुरक्षा व्यवस्था के घेरे में बीच धूम-धाम से दोनो की शादी करवाई।जिला प्रशासन की यह संजीदगी नक्सली मंसूबे को करारी चोट है।

बताते चलें कि बरहट प्रखंड के कुमरतरी गांव के विस्थापित परिवार ब्रह्मादेव कोड़ा व मीना देवी की बेटी नेहा की शादी सिकन्दरा थाना क्षेत्र के फुलवरिया कोड़ासी निवासी आनंद कोड़ा के साथ संपन्न कराई गई। शादी के दौरान लड़की को अपने भाई व मां की कमी महसूस हो रही थी।इस दौरान मलयपुर थाना पुलिस सहित गांव के अन्य लोग आदर्श विवाह के गवाह बनें। मंदिर के पुजारी पंकज पांडे ने पूरे विधि-विधान के साथ शादी की रस्म को संपन्न कराया। यहां यह बताना लाजिमी है कि इस शादी को संपन्न कराने के लिए डीएम, एसपी, डीएफओ ने पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद की थी। बताते चलें की 2 वर्ष पूर्व 14 जुलाई 2017 को नक्सलियों ने कुमरतरी गांव के मीना देवी व उनके दो बेटे बजरंगी कोड़ा तथा शिवा कोड़ा की हत्या कुकुरझप डैम के पास कर दी थी। जबकि 3 मार्च 2018 को नक्सलियों ने पचेसरी हाई स्कूल पर धावा बोल रंजीत कोड़ा के भाई प्रमोद व मदन की हत्या कर दी थी। उस समय से लेकर आज तक यह परिवार आराम की जिदगी जी रहा है। हालांकि जिला प्रशासन के अथक प्रयास से इस परिवार को फुलवरिया कोड़ासी गांव में शिफ्ट करा दिया गया है था।

Comments are closed.