नक्सलियों द्वारा युवक की हत्या करने मामले में मुआवज़ा को लेकर डीएम को दिया आवेदन


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-चकाई प्रखंड के गुरूड़बाद गांव में 15 जनवरी 2019 को नक्सलियों द्वारा एक युवक की हत्या करने के बाद प्रशासनिक पदाधिकारी और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने मृतक मो. गोलका अंसारी के परिजनों को मुआवजा राशि और नौकरी देने का आश्वन दिया था। लेकिन सात माह बीतने के बावजूद भी मृतक के परिजनों को मुआवजा राशि और नौकरी नहीं मिला।इस वजह से सोमवार को मृतक के परिजन मुआवज़े की मांग को लेकर समाहरणालय स्थित जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार से मुलाकात कर आवेदन दिया।

आवेदन में मृतक की पत्नी सखीदा खातून ने बताई कि 15 जनवरी 2019 को लगभग 10 बजे रात में नक्सलियों द्वारा उसके घर में घुसकर उसके पति मो. गोलका अंसारी की हत्या कर दी गई थी। हत्या हुए लगभग सात माह का लंबा समय बीतने के बावजूद प्रशाशन और सामाजिक कार्यकर्ताओं के अश्वासन के बाद भी अभी तक कुछ नहीं मिला है।जबकि उसके पास पांच छोटे-छोटे बच्चे है जिसमें चार पुत्री और एक पुत्र है। जिसका गुजर बसर एवं लालन पालन करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उनकी दयनीय स्थिति और नक्सली क्षेत्र देखते हुए मुआवजा राशि एवं एक नौकरी उनके पंचायत से बाहर देने की मांग परिजनों ने किया है।मालूम हो कि मो. गोलका अंसारी की हत्या नक्सलियों ने पुलिस मुखबरी के आरोप लगाते हुए कर दी थी। तब प्रशासन ने मृतक के परिजनों को आश्वासन दिया था कि उन लोगों को सरकारी स्तर पर मुआवजा राशि दिया जाएगा। साथ ही परिजनों के एक सदस्य को नौकरी भी दी जाएगी।

Comments are closed.