बीमार साथी का इलाज करवाने आये नक्सलियों की पुलिस से हुई मुठभेड़, दो नक्सली को लगी गोली

अंजुम आलम की रिपोर्ट
जमुई: लोकसभा चुनाव के दौरान किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए बिहार-झारखंड के जंगलों में नक्सलियों की जमावड़ा होने की गुप्त सूचना पर गिरिडीह एवं जमुई पुलिस की संयुक्त छापेमारी के दौरान नक्सलियों और सीआरपीएफ के बीच मुठभेड़ हो गई। घंटों चली मुठभेड़ में दो नक्सली को गोली लगी है। जिसमें एक नक्सली की मौत व एक नक्सली के जख्मी होने की सूचना मिल रही है। हालांकि अभी तक इस सम्बंध में कोई अधिकारीक पुष्टि नहीं कि गई है। लेकिन लगभग 07 घंटों से लगातार रुक-रुक कर मुठभेड़ जारी है। बताते चलें कि एसपी जगुनाथरेड्डी के निर्देश पर जमुई जिले के जंगलों में सीआरपीएफ कोबरा बटालियन द्वारा नक्सलियों के खिलाफ हमेशा कांबिंग ऑपरेशन चलाया जा रहा था।

लेकिन इधर 2019 के लोकसभा चुनाव नज़दीक होने के वजह से डीआईजी मनुमहाराज के निर्देश पर जंगलों में सर्च ऑपरेशन तेज़ कर दी गई है। हालांकि झारखंड के गिरिडीह एवं बिहार के जमुई पुलिस को लगातार सीमावर्ती जंगलों में नक्सलियों के जमावड़े की सूचना मिल रही थी। बताया जाता है कि नक्सली कमांडर सिद्धू कोड़ा अपने लगभग डेढ़ दर्जन साथियों के साथ चकाई के हिंडला जंगल में जमा हुए थे। वहीं सूत्रों की माने तो शुक्रवार को साथी नक्सली के बीमार होने की वजह से उसके इलाज के लिए सभी नक्सली चकाई हिंडला जंगल आये हुए हैं। जहाँ एक ग्रामीण चिकित्सक द्वारा बीमार नक्सली का इलाज किया जा रहा था। तभी गिरिडीह एवं जमुई पुलिस का संयुक्त छापेमारी अभियान चलाया गया इसी बीच पुलिस टीम को देखते ही नक्सलियों की ओर से फायरिंग होने लगी। इसी बीच सुरक्षा बलों ने फ़ौरन मोर्चा संभाली और जवाबी फायरिंग करने लगी। वहीं यह मुठभेड़ लगभग 08 घंटों से जारी है दोनो ओर से रुक रुक के फायरिंग हो रही है। मौके पर गिरिडीह जिला एवं जमुई जिला की पूरी पुलिस फोर्स ने जंगलों की घेराबंदी कर सर्च कर रही है। इस करवाई में जंगलों से सुरक्षा बलों ने नक्सलियों के खाना बनाने का सामान बरामद किया है। फिलहाल जंगलो में तलाशी अभियान जारी है। इस ऑपरेशन में झारखंड के देवरी, चतरो कोबरा, भेलवाघाटी एवं जमुई की नक्सल टीम, चकाई सीआरपीएफ, चकाई पुलिस, जमुई पुलिस, एसटीएफ सहित अन्य टीम शामिल है। घटनास्थल पर जमुई एएसपी अभियान सुधांशू कुमार, झाझा डीएसपी भास्कर रंजन, चकाई इंस्पेक्टर चंदेश्वर पासवान सहित अन्य अधिकारी व जवान कमान संभाले तैनात है। अचानक गोलीबारी की आवाज सुनते ही जंगलों में रह रहे आदिवासी ग्रामीण के बीच अफरा-तफरी मच गई सभी ग्रामीण दहशत में आ गए। कई घंटे मुठभेड़ के दौरान चरकापत्थर के जंगल की ओर से घुसे सीआरपीएफ के जवान व स्थानीय पुलिस द्वारा सर्च करते हुए चकाई के हिंडला जंगल की ओर बढ़ रहे थे। बताया जाता है कि अचानक बरमोरिया जंगल स्थित पहाड़ी बाबा के पास सीआरपीएफ की टीम और स्थानीय पुलिस की टीम को कुछ आहट सुनाई दी उसके बाद सभी जवानों ने अंधाधुन फायरिंग शुरू कर दी। जिसमें छोटू टुड्डू के जांघ में एक गोली लग गई।

जिससे वह गंभीर अवस्था में जंगल में ही गिर पड़ा। उसके बाद सीआरपीएफ जवानों द्वारा उसे इलाज के अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं इलाज के दौरान घायल ने बताया कि वह पूजा करने पहाड़ी बाबा के पास गया था जिस दौरान उसे गोली लगी। वहीं पुलिस ने शक की बुनियाद पर बुद्धन टुड्डू के अलावा रसीक टुड्डू और रतन टुड्डू को हिरासत में लिया है। जिससे गहन पूछताछ की जा रही है। इस सम्बंध में एसपी जगुनाथरेड्डी ने बताया कि मुठभेड़ में नक्सलियों को गोली लगी है। लगातार मुठभेड़ जारी है। जंगलों को सर्च किया जा रहा है। मारे गए नक्सली की तलाश की जा रही। सर्च के बाद ही कुछ स्पष्ट हो पायेगा। कितने नक्सली मारे गए हैं या कितने नक्सली गोली लगने से घायल हुए हैं इसकी पूरी जानकारी अभी तक नहीं हो पाई है। सर्च के बाद जल्द ही सूचना दे दी जाएगी।

Comments are closed.