अंपारिंग के स्तर को सुधारने के लिए आईसीसी का नया प्रयोग


आईसीसी अंपारिंग के स्तर को सुधारने के लिए गेंदबाजों के क्रीज से बाहर होने पर नो-बॉल देने का अधिकार टीवी अंपयार को देगी और यह टी-20 और वनडे में अभी ट्रायल के तौर पर लागू किया जायेगा । अभी आईसीसी ने यह फैसला नहीं किया कि इस नियम को अगले छह महीनों में कौन-कौन सी सीरीज में ट्रायल के तौर पर लागू किया जाएगा।

पिछले ट्रायल के दौरान थर्ड अम्पायर को फुटेज देने के लिए एक हॉकआई ऑपरेटर का उपयोग किया गया था। एलरडाइस ने कहा, “फुटेज थोड़ी देरी से दिखाई जाती है। जब पांव लाइन की तरफ बढ़ता है तो फुटेज स्लो मोशन में दिखाई जाती है। यह फुटेज लाइन पर पड़ते समय रुक जाती है। फुटेज के आधार पर थर्ड अम्पायर निर्णय लेता है। इसे हमेशा ब्रॉडकास्ट नहीं किया जाता। आईसीसी की क्रिकेट समिति चाहती है कि इस नियम को छोटे फॉर्मेट में ज्यादा से ज्यादा उपयोग में लाया जाए।

Comments are closed.