पंकजा मुंडे पर 106 करोड़ रुपए के मोबाइल घोटाले का आरोप


आर.पी.मौर्या
मुंबई। विधान परिषद में विपक्ष के नेता और पंकजा मुंडे पर उनके के चचेरे भाई धनंजय मुंडे ने आरोप लगाया है कि महिला एवं बाल विकास विभाग ने आंगनवाडी सेविकाओं को देने के लिए साढे 106 करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप लगाते हुए पूरे मामले की न्यायिक जांच की मांग की है।

पत्रकारों से बातचीत में धनंजय मुंडे ने कहा कि बाजार में यह मोबाइल छह से साढ़े छह हजार रुपए की कीमत पर उपलब्ध है लेकिन एक साथ 1 लाख 20 हजार मोबाइल खरीदने के बावजूद सरकार इसके लिए बाजार मूल्य से ऊंची कीमत चुका रही है। राज्य की 1 लाख 20 हजार आंगनवाडी मुख्यसेविका, पर्यवेक्षक,आंगनवाडी सेविका, मिनी आंगनवाडी सेविकाओं को एंड्रायड मोबाइल फोन देने का फैसला किया गया था। इसके लिए महिला एवं बाल विकास विभाग ने 28 फरवरी 2019 को शासनादेश जारी भी किया था। इसके लिए सिस्टेक आईटी सोल्यूशन प्रायवेट लिमिटेड के जरिए पैनासोनिक इलुगा आय सेवन मोबाइल 8877 रुपए की दर से खरीदने का फैसला हुआ। इसके लिए विभाग 106 करोड़ 82 लाख 13 हजार 795 रुपए खर्च करेगा।
महिला व बाल विकास विभाग ने कहा है कि टेंडर में मंजूर कीमत केवल स्मार्ट फोन की नहीं बल्कि स्मार्ट फोन के साथ मोबाइल डिवाइस मैनजमेंट सॉफ्टवेयर, 32 जीबी डाटा का एसडी कार्ड, डस्ट प्रूफ पाऊच, स्क्रिन प्रोटेक्टर समेत अन्य सामग्री की कीमत शामिल है। विभाग ने कहा कि खरीदी की सभी प्रक्रिया जीईएम पोर्टल पर पारदर्शी तरीके से पूरी की गई। इसके बाद राज्य सरकार की प्रदेश स्तरीय खरीदी समिति और उच्च अधिकार समिति की मंजूरी से एल-1 टेंडर धारक को स्मार्ट फोन आपूर्ति के आदेश दिए गए। केंद्र सरकार के मार्गदर्शक सूचना के अनुसार स्मार्टफोन के 5 प्रतिशत अतिरिक्त स्टॉक के आधार पर 5 हजार 100 स्मार्टफोन अतिरिक्त लिए गए हैं।

Comments are closed.