पेनाल्टी स्ट्रोक में रोहतास टीम ने औरंगाबाद को हराकर शील्ड पर जमाया कब्जा

आशुतोष कुमार की रिपोर्ट
रोहतास: खेल सिर्फ एक खेल नही है, ये एक मौका है उन खिलाड़ियों के लिए जो अच्छा प्रदर्शन कर जिले से बाहर राज्य स्तर व अपने देश के लिए खेलने जाते हैं। उक्त बातें एमएलसी संजीव श्याम सिंह और डॉ॰ नीलम सिंह ने नासरीगंज प्रखंड के मौना गांव के खेल मैदान में डीएसएन क्लब, मौना के बैनर तले एक दिवसीय फुटबॉल टूर्नामेंट मैच का संयुक्त रूप से उद्घाटन के दौरान खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए कहा। फुटबॉल का महामुकाबला रोहतास और औरंगाबाद टीम के बीच मैच खेला गया। जिसमें रोहतास की टीम ने 2 के मुकाबले 3 गोल से विजयी हुई। इस रोमांचक मैच के दौरान दोनों टीमें एक दूसरे पर हावी रहीं और खेल समाप्त होने तक कोई भी टीम कोई गोल नहीं कर सकी। अंत मे आयोजकों के फैसले पर दोनों टीमों को पेनाल्टी स्ट्रोक दिया गया।

रोहतास की तरफ से तीसरा और अंतिम गोल दाग कर टीम को जीत दिलाने वाले खिलाड़ी संजय कुमार को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया। दोनों टीमों के कप्तान को विजेता व उपविजेता की शील्ड से नवाजा गया। वहीं अन्य सभी खिलाड़ियों को भी प्रोत्साहन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। मौके पर सूबे के पूर्व मंत्री अखलाक अहमद, रालोसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष अखिलेश्वर प्रसाद सिंह, रालोसपा(अल्पसंख्यक) के प्रदेश अध्यक्ष अजहरुल हक उर्फ चुन्ने खां, जदयू प्रखंड अध्यक्ष सैयद संजरुल हक उर्फ संजर खां, रालोसपा(अल्पसंख्यक) के पूर्व प्रदेश सचिव परवेज आलम, मुखिया श्याम नारायण, चंदन सिंह, बबन कुमार और किसान सलाहकार अनिल सिंह इत्यादि उपस्थित थे।

Comments are closed.