ज़मीन आवंटित होने के बावजूद झूल रहा सोनेल में अस्पताल बनने की योजना


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-एक ओर सरकार स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के बड़े-बड़े दावे कर रही है।तो वहीं इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही हाल बयां कर रही है। जहाँ जमुई जिले के खैरा प्रखंड अंतर्गत झुण्डो पंचायत के सोनेल गांव में स्वास्थ्य उपकेन्द्र भवन निर्माण का ज़मीन आवंटन होने के बावजूद दो वर्षों में अब तक अस्पताल भवन का निर्माण नहीं हो पाया है।
वार्ड नं 12 के वार्ड सदस्य प्रमोद सिंह एवं ग्रामीण अजय सिंह, संजय सिंह, पिताम्बर सिंह आदि बताते हैं कि गांव में स्वास्थ्य उपकेन्द्र नहीं होने से ग्रामीणों को स्वास्थ्य संबंधित कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।बीमार लोगों को कोसों दूर सोनो या खैरा जाकर ईलाज करवाना पड़ता है।रात में कोई ज्यादा बीमार पड़ जाये तो शायद भगवान भरोसे ही उनकी जिन्दगी बचती है।खास कर महिलाओं को प्रसव के लिए सोनो ,खैरा या जमुई जाना पड़ता है।जबकि इलाके में और भी स्वास्थ्य केंद्र हैं;पर अपनी अव्यवस्था पर आंसू बहा रहा है,कुछ में सिर्फ कागजी खानापूर्ती होती है तो कुछ स्वास्थ्य केंद्र सिर्फ कागजों पर चलते हैं।

बताते चलें कि सोनेल में स्वास्थ्य उपकेन्द्र के भवन निर्माण को लेकर जनवरी 2017 में ग्रामीणों द्वारा एक आवेदन सिविल सर्जन जमुई को दिया गया था।शुरूआती दौर में संबंधित विभाग में कुछ सुगबुगाहट भी देखने को मिली। विभाग द्वारा अंचलाधिकारी खैरा को ज़मीन आवंटित करने को लेकर विभागीय पत्र भी जारी किया गया।तत्पश्चात अंचलाधिकारी खैरा के पत्रांक 320 दिनांक 24-05-2017 द्वारा आवंटित ज़मीन का विवरण सिविल सर्जन जमुई एवं कार्यपालक अभियंता भवन निर्माण विभाग जमुई को भी दिया गया। बावजूद आज तक दो वर्ष बीत चुके हैं उक्त स्थल पर भवन निर्माण संबंधित कार्य नहीं किया गया है।मामले को ठंढे बस्ते में डाल दिया गया है। इससे साफ प्रतीत हो रहा है कि संबंधित विभाग के सुस्त रवैये के कारण सरकार के दावे खोखले साबित हो रहे हैं।

कहते हैं सिविल सर्जन
सिविल सर्जन डॉ. श्याम मोहन दास ने बताया कि इसकी सूचना मुझे नहीं है।मेरे कार्यकाल में किसी ग्रामीणों द्वारा आवेदन नहीं दिया गया है।अगर ऐसी कोई बात है तो इसकी जानकारी ग्राम द्वारा देने पर जांच कर आगे की प्रक्रिया की जाएगी।

Comments are closed.