पोखर का अस्तित्व हुआ खत्म तो बारिश में डूबा महिसौड़ी मोहल्ला


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-मॉनसून के दस्तक देते ही शहर स्थित महिसौड़ी मोहल्ले में भीषण जल-जमाव की समस्या इतनी बढ़ गई है कि लोगों का जीना दुश्वार हो गया है।इस जल-जमाव ने एक दर्ज से अधिक घरों को अपने चपेट में ले लिया है।कुछ घर तो बुरी तरह नाले के पानी मे डूब चुका है।बताते चलें कि कुछ लोगों द्वारा अपने स्वार्थ के लिए महिसौड़ी मोहल्ले स्थित कुन्नू पोखर व नहर को अतिक्रमण कर भर दिया गया है साथ ही नाले के निकास को बंद कर दिया गया जिस वजह से पूरा मोहल्ला नर्क बना हुआ है।इसकी शिकायत जब लोगों ने नगर परिषद से किया तो नपअधिकारी डॉ.जनार्दन प्रसाद वर्मा व नपउपाध्यक्ष राकेश कुमार द्वारा जलजमाव स्थल का निरीक्षण किया गया था और नप अधिकारी द्वारा जिलाधिकारी से बात कर जल्द ही इस समस्या के निदान करने का भरोसा दिलाया गया था।लेकिन डेढ़ महीना बीतने के बावजूद इस ओर पदाधिकारी व जनप्रतिनिधि का रवैया उदासीन बना हुआ है।महज एक पम्पसेट देकर सिर्फ जवाबदेही पूरी कर ली गई है। हालांकि तत्काल पम्पसेट लगाकर लोगों की परेशानियों को कुछ हद तक ठीक किया गया था परंतु मॉनसून शुरू होते ही पम्पसेट भी फेल कर गई।जिस वजह से दृश्य और भयावह हो गई।बताते चलें कि शहर के महिसौड़ी मोहल्ले के करीब 400 घरों को नाले का निकास नहीं मिल रहा है जबकि इस मोहल्ले में वार्ड नम्बर-13, 12 और 19 के भी घर शामिल हैं।

नाले के पानी से एक दर्जन से अधिक घर प्रभावित
कुन्नू पोखर का अतिक्रमण और नाले का निकास बन्द होने की वजह से महिसौड़ी मोहल्ले में जसीम खान का घर पूरी तरह नाले के पानी से डूब गया है तो वहीं मोहल्ले की गली में भी नाले का पानी खुले तौर पर बह रहा है।जबकि इस नाले के पानी की चपेट में मो.शमीम खान,मो.कुद्दुस खान,मो.मासूम खान,मो.इस्लाम,मो.बुलंद अख्तर,मो.नौशाद,मो.नाजिर,मो.मंजूर,मो.अनवर सहित एक दर्जन से अधिक घर के आ जाने से मोहल्ले में हाहाकार मचा हुआ है।

जल-जमाव का मुख्य कारण पोखर व पैन का अतिक्रमण
स्थानीय लोग बताते हैं कि महिसौड़ी मोहल्ले स्थिति शगुन वाटिका के पीछे एक कुन्नू पोखर था जिसका खाता-11 और खसरा-487 है।उक्त पोखर में पूरे मोहल्ले का पानी पूर्वज से ही गिरता आ रहा था फिर पोखर से बाबुटोला स्थित पैन में पानी गिरता था लेकिन कुछ लोगों द्वारा पोखर और पैन का अतिक्रमण कर लिया गया जिस वजह से जल-जमाव की समस्या उत्पन्न हो गई और कई घरों में पानी घुस गया।

जल-जमाव से कई बीमारियों के घेरे में आ सकते हैं लोग
कई महीनों से जल-जमाव की भीषण समस्या से जूझ रहे मोहल्लेवासी कहीं गंभीर बीमारीयों की चपेट में न आ जाएं।गंदे पानी के जमाव से मलेरिया,टायफाइड,डायरिया,डेंगू,महामारी सहित कई घातक बेमारियां जन्म लेती हैं जो मोहल्लेवासियों के जीवन को संकट में डाल सकती है।

कहते हैं मोहल्लेवासी
महिसौड़ी मोहल्ले निवासी मो.गुलज़ार ने बताया कि इस मोहल्ले में वर्षों पूर्व कुन्नू पोखर था जिसके अस्तित्व को कुछ लोगों द्वारा मिटा दिया गया है और नाले के निकास को भी बंद कर दिया गया जिस वजह से यह समस्या उत्पन्न हुई है।मो.दिलावर ने बताया कि करीब 06 महीना से जल-जमाव की समस्या बनी हुई है कई बार शिकायत के बावजूद इसका कोई निदान नहीं निकाला गया है।वहीं शेख मो.कैलू बताते हैं कि पदाधिकारी व जनप्रतिनिधि के निरीक्षण के बावजूद दो महीने के बाद भी इस समस्या का निदान नहीं किया गया।जबकि सबीना खातून की माने तो नाले का पानी कई घरों में घुस गया है जिससे लोगों को रहने व आने-जाने में काफी परेशानियों का सामना करना ओढ़ रहा है।जो भी यहां आते हैं सभी लोग आश्वासन देकर चले जाते हैं।

कहते हैं विधायक
जमुई के स्थानिए विधायक विजय प्रकाश ने बताया कि जल-जमाव से समस्या मेरे संज्ञान में आया है।सम्बंधित अधिकारी से बात कर जल्द से जल्द इसका निदान निकाला जाएगा।

कहते हैं प्रभारी डीएम
प्रभारी जिलाधिकारी सह डीडीसी अरुण कुमार ठाकुर ने बताया कि मामला मेरे संज्ञान में नहीं है।सम्बंधित अधिकारी से जानकारी लेने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

कहते हैं नप अधीक्षक
कार्यपालक पदाधिकारी डॉ. जनार्दन प्रसाद वर्मा ने बताया कि जलजमाव स्थल का निरीक्षण किया गया था।मोहल्ले वासियों द्वारा आवेदन देने के बाद तत्काल पानी निकासी को लेकर पम्पसेट लगाया गया था।बारिश की वजह से जल-जमाव हुई है।जल्द ही समस्या का समाधान किया जाएगा।

Comments are closed.