प्रधानमंत्री शेख हसीना की आलोचना करना पड़ा महंगा


बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की आलोचना करने के कारण वर्ल्ड फुटबॉल की नियामक संस्था-फीफा के एक अधिकारी को यहां गिरफ्तार कर लिया गया है। बीबीसी के अनुसार फीफा परिषद् की एक सदस्य महफूजा अख्तर करोन ने कहा था कि हसीना ने देश में फुटबॉल को नजरअंदाज किया है जो उनकी गिरफ्तारी का कारण बना है। करोन के खिलाफ स्थानीय खेल अधिकारी यह कहते हुए मानहानी का मुकदमा भी दर्ज किया गया कि उन्होंने पूरे देश को शर्मसार किया है।
वकील ने कहा कि शनिवार को करोन की जमानत की अर्जी को ठुकरा दिया गया और उन्हें जेल भेज दिया गया है। लियाकत हुसैन ने कहा है कि हमने जमानत की मांग की जिसके बाद उन्हें कोर्ट ले जाया गया, लेकिन हमारी प्राथनाएं नहीं सुनी गई। हसीना की सरकार पर विभिन्न मानवाधिकार समूहों ने कड़े कानून के जरिए देश में जनता की आवाज को दबाने का आरोप लगाया है।
करोन ने एक टीवी शो के दौरान कहा था कि प्रधानमंत्री क्रिकेट के लिए पागल बांग्लादेश में फुटबॉल को नजरअंदाज कर रही हैं. इसके कारण उनपर मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा था कि “प्रधानमंत्री फुटबॉल और क्रिकेट को लेकर दोहरा रवैया अपनाती हैं। वह अपने निजी स्वार्थ के लिए क्रिकेट को ईनाम देती है और फुटबॉल को नजरअंदाज करती हैं. हसीना ने अभी तक इस मुद्दे पर किसी प्रकार की टिप्पणी नहीं की है।

Comments are closed.