युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत के शॉट सिलेक्शन पर उठते रहे हैं सवाल


वेस्ट इंडीज के खिलाफ जारी टेस्ट सीरीज का पहला मैच भारत ने 318 रनों के प्रभावशाली अंतर से जीता, लेकिन इस टेस्ट में ऋषभ का बल्ले से योगदान निराशाजनक रहा। पहली पारी में वह 24 रनों पर आउट हुए, जबकि दूसरी पारी में महज 7 रन पर चलते बने। भारत के सबसे दिग्गज विकेटकीपरों में से एक रहे सैयद किरमानी ने तो साफतौर पर कहा है कि वेस्ट इंडीज के खिलाफ दूसरे व आखिरी टेस्ट मैच में पंत की जगह ऋद्धिमान साहा को शामिल किया जाना चाहिए।

ऋषभ पंत को भारतीय क्रिकेट के सबसे प्रतिभावान प्लेयर्स में से एक और भविष्य का बड़ा सितारा माना जाता है। लेकिन, इस विकेटकीपर बल्लेबाज के प्रदर्शन में निरंतरता की कमी उनके करियर ग्राफ के आड़े आ रही है। ऋषभ पंत इससे पहले तीन मैचों की टी20 और फिर तीन मैचों की वनडे सीरीज में फ्लॉप रहे थे। केवल आखिरी टी20 मैच में उन्होंने नॉटआउट 65 रन की पारी खेली थी। पहले टी20 में वह खाता नहीं खोल पाए थे जबकि दूसरे में उन्होंने महज 4 रन बनाए। पहले वनडे में रिजल्ट नहीं निकला, जबकि दूसरे वनडे में ऋषभ ने 20 रन पर आउट हुए तो तीसरे में वह शून्य पर चलते बने।

हाल में समाप्त हुए वर्ल्ड कप और मौजूदा वेस्ट इंडीज दौरे में पंत के शॉट सिलेक्शन और सॉफ्ट तरीके से आउट होने के अंदाज ने क्रिकेट प्रेमियों को निराश किया है। 88 टेस्ट खेल चुके पूर्व विकेटकीपर सैयद किरमानी ने भी पंत के फिलहाल छोटे-से करियर में निरंतरता की कमी जिक्र करते हुए कहा है कि उन्हें अभी काफी सारी चीजें सीखनी होंगी। उन्होंने कहा है कि चोट के कारण लंबे समय से टेस्ट टीम का हिस्सा ना रहे ऋद्धिमान को मौका मिले, साहा चोटिल थे और अब वह पंत की तरह की बराबर का मौका पाने के हकदार हैं।

Comments are closed.