नए हथियार से इंग्लैंड में शिकार करने को तैयार गेंदबाज कुलदीप यादव


आईपीएल के सीजन 12 में कोलकाता नाईट राइडर्स के लिए पिछले साल के हीरो रहे कुलदीप इस साल कुछ ख़ास छाप नहीं छोड़ पाए। उन्होंने 9 मैच खेलें जिसमें सिर्फ 4 विकेट हासिल हुए। इतना ही नहीं इस प्रदर्शन के बाद उन्हें केकेआर टीम की प्लेयिंग 11 तक से हाथ धोया पड़ा था। ऐसे में रंगारंग लीग में फीका सीजन जाने के बाद कुलदीप यादव ने इंडिया टी. वी से फोन पर हुई बातचीत में बताया कि किस तरह वो वर्ल्ड कप 2019 में धमाकेदार वापसी के लिए खुद को तैयार कर रहे हैं। जिससे वो फैंस के दिल में एक बार फिर से अपने लिए जगह बना सके।

आईसीसी वर्ल्ड कप इंग्लैंड में खेला जाना है। जहां पर कुलदीप यादव का शानदार रिकॉर्ड रहा है। अभी तक कुलदीप ने इंग्लैंड में सिर्फ एक मात्र तीन वनडे मैचों की सीरीज खेली हैं। जिसमें उन्होंने कुल 9 विकेट हासिल किए थे। इस सीरीज में 25 रन देकर 6 विकेट उनकी गेंदबाजी का सर्वोच्च प्रदर्शन इंग्लैंड की सरजमीं पर ही आया है। ऐसे में इंग्लैंड की पिचों पर गेंदबाजी करने की उत्सुकता को लेकर कुलदीप ने कहा, “वहाँ पर गेंद ग्रिप होता है और टर्न भी होता है उस हिसाब से देखा जाए तो गेंदबाजी के लिए बिलकुल परफेक्ट कंडीशन है। पिछली बार जब गया था तो गेंदबाजी करने के लिए शानदार विकेट थे काफी मजा आ रहा था। उम्मीद करता हूँ इस बार भी वैसे विकेट और प्रदर्शन भी शानदार रहेगा।”

ऐसे में मिडिल ओवर्स में विकेट निकालने के प्लान के बारें में कुलदीप ने कहा, “50 ओवेर्स में मध्यक्रम के ओवर काफी महत्वपूर्ण होते हैं। हमारा प्लान रहता है की कैसे विकेट निकाले जाए, हम और चहल दोनों बात करते रहते हैं। विराट भाई पूरा हम लोग को सपोर्ट करते हैं। उनका विकेट निकालने का माइंड सेट होता है। हमेशा कोशिश यही रहती है कि सुरक्षित गेंदबाजी ना की जाए बल्लेबाज को ललचाया भी जाए उसको सेट ना होने दिया जाए। उसको शॉट खेलने के लिए आजादी भी देतें हैं तो इस तरह की हमारी एप्रोच रहती है विकेट निकालने के लिए।

पूरी दुनिया में कलाई के स्पिनरों कि चर्चा होने के कारण जब वर्ल्ड कप के लिए कुलदीप से पूछा गया कि कौन से स्पिनर्स इस बार इंग्लैंड की विकटों पर ज्यादा कहर बरपाएंगे कलाई या ऊँगली ? तो कुलदीप ने कहा, ” जिस गेंदबाज की गेंद घूमेगी वही ज्यादा असरदार साबित होगा, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की वो कलाई से घुमा रहा है या फिर ऊँगली से।”

Comments are closed.