सरपंच पति को शराब माफियाओं के खिलाफ विरोध करना पड़ा महंगा


रमेश शंकर झा समस्तीपुर बिहार
समस्तीपुर:- जिले के माहे सिंघिंया थाना क्षेत्र के माहे गांव में अपराधियों ने सरपंच पति सह कांग्रेसी नेता अरुण कुमार सिंह को गोली मारकर हत्या किया। वहीं मृतक के पुत्र मानस कुमार पर भी गोलीबारी किया गया जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गया। सरपंच पति के हत्या की खबर फैलते ही गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया। ग्रामीण लोग मृतक को देखने के लिऐ जुटने लगे। घायल मृतक के पुत्र को गंभीर हालात में बेहतर इलाज के लिए डीएमसीएच रेफर कर दिया गया है। घायल की स्थिति नाजुक बनी हुई है। जिससे गांव में भय का वातावरण व्याप्त हो गया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बताया जाता है कि सरपंच पति की हत्या उस समय हो गई है, जब वे गांव में ही किसी पंचायती में हिस्सा लेने के लिए जा रहे थे। पहले से घात लगाऐ बैठे अज्ञात अपराधियों ने गोलीबारी शुरू कर दिया। ताबड़तोड़ गोलीबारी किए जाने से गोली इनके सीने में जा लगी। जिससे इनकी मौत घटनास्थल पर ही हो गया। इनपर जानलेवा हमले किऐ जाने की सूचना सुनकर उनके पुत्र मानस कुमार भी घटनास्थल पर पहुंचा। जहां वह भी अपराधियों के गोली के शिकार बना और गंभीर रूप से घायल हो गया। वहीँ घटना के संबंध में चहूंओर गांव में चर्चा है की अवैध शराब कारोबारियों द्वारा शराब बिक्री करने का विरोध करना इनको मंहगा पड़ गया।

बतादे की संपूर्ण राज्य में शराबबंदी कानून लागू होने के बावजूद गांव में शराब माफियाओं द्वारा शराब की खरीद-बिक्री बेखौफ होकर किऐ जारहे है। विरोधी आवाज उठाने पर उनको हत्या को अंजाम दिया गया है। ग्रामीण क्षेत्र के जिला वासियों के अनुसार सम्पूर्ण जिले के थाना क्षेत्रों में खुलेआम अवैध शराब की धंधा करने वाले कारोबारियों का धंधा पुलिस कर्मियों एंव अधिकारियों की मिलीभगत से दिन दुगुना रात चौगुना हो रहा है। शराब माफियाओं के खिलाफ आवाज उठाने का मतलब है अपनी जान गंवाना होगा, क्यों कि पुलिस अधिकारी इसमें पुरी तरह से संलिप्त होती है। पुलिस सबको अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल समस्तीपुर भेज दिया और पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

Comments are closed.