विद्यालय एवं सङक से सदन तक होगी आर-पार की लड़ाई


रमेश शंकर झा,समस्तीपुर बिहार
समस्तीपुर:- जिले में टीईटी प्रारंभिक शिक्षक संघ जिला इकाई की सांगठनिक बैठक बुधवार को शहर के निजी कोचिंग में आयोजित किया गया। बैठक की शुरुआत में सभी उपस्थित शिक्षकों ने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर गहरी नराजगी व्यक्त करते हुए। इस फैसले से आहत हो आत्महत्या करने वाले दिवंगत शिक्षकों की आत्मा की शांति हेतु दो मिनट का मौन धारण कर उन्हें श्रद्धांजलि दीया।

वहीँ बैठक की अध्यक्षता जिला उप संयोजक संजीत भारती ने कीया। उन्होंनें अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि इस कठिन समय में हमें धैर्य, एकजुटता व आपसी समन्वय की जरूरत है। ताकि हम पूरी तन्मयता के साथ सभी नेतृत्वकारी साथियों की अगुवाई में अपने हक की लङाई को निर्णायक रूप दे सकेंगें। वहीँ वक्ताओं ने समान काम-समान वेतन पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एतराज जताते हुए कहा कि बिहार के लगभग साढ़े तीन लाख नियोजित शिक्षकों के भविष्य के साथ धोखा हुआ है। केंद्र व राज्य सरकार के दबाव में आकर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला बदला है।अब हमारे पास एक ही विकल्प है कि समान काम समान वेतन के लिए हमलोग विद्यालय, सड़क से लेकर सदन तक आंदोलन करेंगे।

इसके अलावा न्यायविदों की राय के उपरांत माननीय उच्चतम न्यायालय में 78 बिन्दुओं से पुनर्विचार याचिका दायर कर न्याय के दर पर अपनी उपस्थिति एक बार पुनः दर्ज करायी जायगी। इस मौके पर उपस्थित शिक्षकों ने असहयोग आंदोलन की राह करेंगे अखित्यार, आरटीई 2009 व नियमावली 2012 पर विशेष चर्चा की गई थी। बिहार सरकार ने गलत तथ्यों के आधार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को प्रभावित किया है। संघ इसका सड़क से लेकर न्यायालय तक विरोध करेगा। मौके पर धर्मवीर कुमार, टुनटुन कुमार, मनोज कुमार सिंह, अनिल कुमार, राहुल किशोर, सुजीत कुमार, दरखशां अंजाम,विजय कुमार शास्त्री, संजीव कुमार, विजय कुमार राय,वेद पकाश, वकील कुुुमार सहनी,राजाराम सिंह,अंकित कुमार सिंह, चंदन कुमार ठाकुर, ब्रजेश कुमार ,रंजीत कुमार, कृष्ण कुमार, मुकेश कुमार, संजय कुमार, शशि कुमार, नवीनचंद्र सिंह, मो.रईस, मो.उजैर, पंकज कुमार झा आदि ने अपने-अपने विचार व्यक्त किया।

Comments are closed.