कुछ बुद्धिमान लोग आलू से सोना बनाते हैं, हम ये वादा नहीं करते : मोदी


लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को उत्तरप्रदेश में रैलियां कीं और सीतापुर में उन्होंने कहा है कि कांग्रेस, सपा और बसपा को समझ नहीं आ रहा है कि वे किस मुद्दे पर वोट मांगे। जात-पात का जो खेल उन्होंने रचा था, वो आज उन्हीं पर भारी पड़ रह है। बुबा-बबुआ की दुकान पर ताला लग गया, तो इस बार उन्होंने महामिलावट का नया काउंटर खोल लिया।

मोदी ने कहा है कि कुछ घंटे पहले यूपी बोर्ड परीक्षा के नतीजे आए हैं। परीक्षा में पास हुए सभी छात्र-छात्रों को में बधाई देता हूं और उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं। जो छात्र कुछ नंबर से पीछे रह गए हैं, वे निराश न हों और अभी से पढ़ाई में जुट जाएं। ये सलाह मैं परिवार के सदस्य के नाते दे रहा हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा है कि हम ऐसे वादे नहीं करते जिसके कारण जनता बेचारी बेचैन हो जाए। ऐसे बुद्धिमान और तेजस्वी लोग भी देश में हैं जो आलू से सोना बनाते हैं। माफ कीजिए, वो काम हम नहीं कर सकते। मैं आलू से सोना नहीं बना सकता, न मेरी पार्टी बना सकती है। हम यह वादा नहीं दे सकते और न ही आलू से सोना बना सकते हैं। हम कोल्ड स्टोरेज बना सकते हैं, ताकि आलू सुरक्षित हो जाएं और उससे आप चिप्स बना सकें। हम आपको सही मूल्य दिला सकें और आपकी चीजें बाहर भी जा सकें।

प्रधानमंत्री ने कहा है कि मेरे लिए पिछड़ा होना मां भारती की सेवा करने का सौभाग्य है। मेरी जाति तो इतनी छोटी है कि गांव में एकाध घर में भी नहीं होती। मैं पिछड़े से नहीं अति पिछड़े वर्ग से हूं। मेरा पूरा देश जब पिछड़ा है तो मुझे पूरे देश को अगड़ा बनाना है। जब आप मेरी जाति को लेकर प्रमाण पत्र बांट रहे हो। तो मैं बता देता हूं मेरी जाति अति पिछड़ी है। नमक कितना ही कम क्यों न हो लेकिन खाने का स्वाद बढ़ा देता है। यह मोदी पिछड़ी जाति का है जो नमक का काम कर रहा है।

Comments are closed.