सुब्रह्मण्यम स्वामी का बड़ा ख़ुलासा, पाकिस्तान में किए Air Strike का रक्षा मंत्री..

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और सांसद सुब्रमण्यम स्वामी लगातार अपनी ही पार्टी की सरकार पर हमलावर हो रहे है. स्वामी केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से ही अक्सर ही सरकार को सवालों के कटघरे में खड़ा करते रहते है. एक बार फिर से स्वामी ने बीजेपी और पीएम मोदी पर तीखा निशाना साधा है. बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए बताया है कि मंगलवार को भारतीय वायुसेना द्वारा पाक के बालाकोट में की गई हवाई कार्रवाई की जानकरी रक्षा मंत्री को भी नहीं थी.

google image

राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने शुक्रवार को एक ट्वीट करते हुए लिखा कि मुझे यह पता है कि पाक और पीओके में आ$तंकी शिविरों के खिलाफ किये गए ऑपरेशन की जानकारी सिर्फ सात लोगों को थी. जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, तीनों सेनाओं के प्रमुख, इंटेलिजेंस ब्यूरो और रॉ के प्रमुख शामिल हैं.

स्वामी के अनुसार इस महत्वपूर्ण ऑपरेशन की जानकारी तीनों सेना प्रमुख को दी गई है जबकी इसकी जानकारी देश के रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को नहीं थी. इसके साथ ही स्वामी ने एक अन्य ट्वीट में हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट का लिंक भी साझा किया है जिसने कुछ इसी तरह का दावा किया गया है.

हिंदुस्तान टाइम्स अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित आ$तंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ट्रेनिंग कैंपो पर मंगलवार की सुबह हुई भारतीय वायुसेना की कर्रवाई और हमले की टाइमिंग की जानकारी सिर्फ़ सात लोगों को ही थी.

अख़बार के अनुसार मंगलवार की सुबह तीन बजकर 40 मिनट से लेकर तीन बजकर 53 मिनट के बीच इस हमले को अंजाम दिया गया है और इस हमले में मिराज लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल किया गया था. अखबार के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 18 फरवरी को पाकिस्तान में घुस कर हवाई हम’ला करने की मंज़ूरी दी थी.

ख़ुफ़िया विभाग के अधिकारियों के हवाले से कहा गया है कि इस हम’ले टाइमिंग की जानकारी सिर्फ़ सात लोगों को थी. जिसमें प्रधानमंत्री मोदी के अलावा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, तीनों सेनाओं के प्रमुख, इंटेलिजेंस ब्यूरो और रॉ के प्रमुख शामिल हैं.

जबकि देश की रक्षा मंत्री होने के बाद भी निर्मला सीतारामण को हम’ले के बारे में जानकारी नहीं थी. इसके लिए वायुसेना ने 22 फरवरी से ही अपने लड़ाकू विमानों को सीमा के निकट के एयरबेस से रात में उड़ान भरवाना शुरू कर दिया था जिससे की पाकिस्तानी सेना को भ्रम में डाला जा सके.

वहीं जब 25 फरवरी को ख़ुफ़िया जानकारी मिली कि बालाकोट के शिविर में जैश-ए-मोहम्मद के 300 से 350 आ$तंकी मौजूद हैं तो एयरफ़ोर्स को हम’ले के लिए हरी झंडी दे दी गई. आपको बता दें कि इस हम’ले को वायुसेना के 12 मिराज विमानों के एक समूह ने अंजाम दिया है.

Comments are closed.