सनराइजर्स हैदराबाद की टीम ने नीलामी में दिखाई समझदारी


आईपीएल इंग्लिश प्रीमियर लीग और ला लीगा की तरह बहुत लंबे समय तक नहीं चलता, लेकिन यह दोनों का मिला जुला स्वरूप है। इसीलिए, यहां भी बैंच स्टेंथ काफी महत्वपूर्ण हो जाती है। सनराइजर्स हैदराबाद ने नीलामी में बेहद समझदारी से खिलाड़ियों का चयन किया। अभी तक के अभियान में इसका असर देखने को मिल रहा है।

वार्नर, बेयरस्टो और राशिद खान की टीम में मौजूदगी के बाद पहले मुकाबले में उन्होंने चौथे विदेशी खिलाड़ी के तौर पर विश्व स्तरीय आलराउंडर शाकिब अल हसन को जगह दी। मगर जब टीम आरसीबी के खिलाफ मैदान में उतरी तो उनका सामना विपक्षी टीम के तीन बाएं हाथ के बल्लेबाजों पार्थिव पटेल, मोइन अली और हेतमार से था। इसे देखते हुए उन्होंने एक और विश्व स्तरीय आलराउंडर मोहम्मद नबी को उतारा। नबी की गेंद बाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए बाहर की ओर निकलती है और इस मैच में उन्होंने टूर्नामेंट के बेहतरीन स्पैल में से एक डाला।

आईपीएल खिताब जीतने के बाद धोनी ने कहा था उन्हें इस बात पर गर्व है कि कई दिग्गज खिलाड़ियों को खेलने का मौका भले न मिल सका हो, लेकिन टीम का माहौल इससे प्रभावित नहीं हुआ और खिलाड़ियों में सकारात्मक उर्जा रही। टीमों में सपोर्ट स्टाफ प्रमुख खिलाड़ियों को मैच फिट रखता है। कई बार आपको मैच से केवल 20 मिनट पहले पता चलता है कि आप खेल रहे हैं। अभियान से पहले सही सपोर्ट स्टाफ का चयन करना महत्वपूर्ण होता है।

Comments are closed.