बीएमसी कमिश्नर ने दिए निर्देश हर हाल में बारिश में चलती रहनी चाहिए मुंबई

 


आर.पी.मौर्या
मुंबई। मुंबई बीएमसी कमिश्नर प्रवीण परदेशी ने विभिन्न विभागों के साथ मॉनसून पूर्व तैयारियों पर हुई विशेष बैठक बुलाया गया और इस बैठक में मुंबई पानी भरने से यातायात बाधित होने से रोकने के लिए जरूरी काम करने को कहा है। इसके अलावा, भूस्खलन और खतरनाक इमारतों को लेकर त्वरित कार्रवाई करने को कहा है, जिससे कोई भी अप्रिय घटना में बड़ी जनहानि न हो। बैठक में पुलिस कमिश्नर संजय बर्वे, बीएमसी के तीन अडिशनल कमिश्नर, मध्य रेलवे के डीआरएम एस.के. जैन, बेस्ट, एमएमआरडीए, मौसम विभाग, नौसेना, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल, पश्चिम रेलवे, एयरपोर्ट समेत अन्य सरकारी विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

मुंबई में जर्जर हो चुकी इमारतों को लेकर विशेष सजगता बरतने को कहा गया है। निवासियों द्वारा खाली इमारत खाली न करने पर लाइट, पानी काटने का निर्देश दिया गया है। 398 जर्जर इमारतों में से घाटकोपर में 64, अंधेरी और जोगेश्वरी (पश्चिम) में 51 और मुलुंड में 47 इमारतें हैं। जिनमें से 193 में कोर्ट में मामला चल रहा है जबकि 46 का मामला टेक्निकल अडवाइजरी कमिटी (टीएसी) के पास विचाराधीन है। 159 इमारतों का बिजली-पानी कनेक्शन काटा जा चुका है। गौरतलब है कि जर्जर इमारतों के ढहने से बड़ी संख्या में जनहानि होती है। इसी को देखते हुए यह निर्देश दिया गया है।

31 मई तक यह हाल में नाला सफाई पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। शुरुआत में धीमी गति से चल रहे काम में अब तेज गति पकड़ी है। मिले आंकड़ों के मुताबिक, नाल सफाई का 70 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। एक अधिकारी ने बताया कि अगले दो-तीन दिनों में यह व्यवस्था शुरू हो जाएगी। जिससे जनता के सामने काम की हकीकत रखी जा सके। नाला की सफाई करने से पहले और करने के बाद की फोटो अपलोड करने का निर्देश दिया गया है। बैठक में नाला विभाग ने हाई-टाइट के वक्त समुद्र का कचरा वापस शहर में आने की समस्या से भी अवगत कराया।

 

Comments are closed.