चिकित्सक ने किया मृत घोषित तो अस्पताल में शुरू हुआ अंधविश्वास का खेल


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-विषैले सांप के काटने के बाद झाड़फूंक के चक्कर में जब एक व्यक्ति की तबियत और ज़्यादा बिगड़ गई तो उसे लेकर परिजन सदर अस्पताल पहुंचे।जबकि व्यक्ति की मृत्यु पहले ही हो चुकी थी।जिसे डॉक्टर ने भी मृत घोषित कर दिया।लेकिन परिजन मृत मानने के लिए ही तैयार नहीं हुए और डॉक्टर के मृत घोषित करने के तकरीबन दो घंटे बाद झारखंड के नोनपुर गांव से एक ओझा को बुलाया गया।फिर क्या था कुछ देर तक चला मृत शरीर के साथ अंधविश्वास का खेल।जिंदा करने का किया जाने लगा असफल प्रयास।अंधविश्वास का झूठा ढोंग की हद तो उस वक़्त हुई जब मृत शरीर मे जान नहीं आई तो ओझा ने कहीं और ले जाने की बात कही उसके बाद परिजन द्वारा मृत शरीर को बोलेरो वाहन से 55 किलोमीटर दूर शेखपुरा ले जाया गया।

ज़हरीले सांप के काटने से हुई थी व्यक्ति की मौत
जिले के खैरा थाना क्षेत्र अंतर्गत बोझायत गांव में बुधवार की सुबह ज़हरीले सांप ने कृष्णा मोदी के पैर में काट लिया।परिजन द्वारा व्यक्ति को सदर अस्पताल लाया गया जहां चिकित्सक मनीषी आनंत ने व्यक्ति को मृत घोषित कर दिया।बताया जाता है कि कृष्णा मोदी अपने छत से उतर कर बाहर जाने लगा तभी घर में ही एक विषैले सांप ने काट लिया।हद तो उस वक़्त हुई जब इसकी सूचना परिवार के सदस्यों को हुई और उसे इलाज के बजाए झाड़-फूंक के लिए गांव के ही एक ओझा के पास ले जाया गया।जब ओझा द्वारा ठिक नहीं हुआ तो व्यक्ति को लगभग 03 घंटे बाद सदर अस्पताल लाया गया।जहां व्यक्ति की मौत रास्ते में ही हो गई।

Comments are closed.