सदर अस्पताल में झूठा रेफर का खेल बंद हो अन्यथा आंदोलन:- बंदना सिंह


रमेश शंकर झा,समस्तीपुर बिहार।
समस्तीपुर:- जिले के जितवारपुर निजामत के वार्ड संख्या-2 निवासी सह भाकपा माले नेता राजकुमार चौधरी की विधवा माँ केसिया देवी उम्र 70 वर्ष कल रविवार को मथुरापुर स्थित बाजार समिति जाते समय तेज गति से आ रहे वाहन से दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी। राहगीरों ने उसे सदर अस्पताल में भर्ती कराया। परिजनों को जानकारी होने पर पीड़ित महिला के पुत्र, पुत्रवधु सहित अन्य परिजन अस्पताल पहुँचे। वहीँ चिकित्सक ने ईलाज करने की जहमत से बचने के लिए ब्रेन हैमरेज होने का बहाना बनाकर करीब 5 बजे शाम में डीएमसीएच रेफर कर दिया था।

जब परिजन को चीखते-चिल्लाते देख एक कर्मी ने आकर कहा कि मरीज ठीक है। वहीँ चिकित्सक ईलाज करना नहीं चाहते है, रोगी को घर ले जाईए। ऐसा सुनकर पीड़िता के परिजन उसे घर लेकर चले गये। ग्रामीण चिकित्सक ने हल्का ईलाज किया। अब वह महिला पूरी तरह स्वस्थ है। सदर अस्पताल में जारी रेफर का खेल रोकने, दोषी चिकित्सक पर कारबाई करने, अस्पताल की व्यवस्था सुधारने आदि की मांग को लेकर आज महिला संगठन ऐपवा नेत्री बंदना सिंह, माले नेता सुरेंद्र प्रसाद सिंह, पीड़िता के पुत्र राजकुमार चौधरी ने जिलाधिकारी को स्मार-पत्र सौपा है।

जिसमे महिला नेत्री बंदना सिंह ने कहा कि चिकित्सक पैसा के लोभ में अपने निजी अस्पताल में गंभीर से गंभीर रोगी को भर्ती रखते हैं। जबकी ईलाज करने की जहमत से बचने हेतु साधारण रोगी को भी रेफर कर दिया जाता है। इस रेफर के खेल में लेनदेन भी होता रहता है। वहीँ ऐपवा नेत्री ने इस खेल को रोकने की व्यवस्था करने की जिलाधिकारी से मांग कीया है, अन्यथा आंदोलन चलाने की घोषणा कीया है।

Comments are closed.