कैमरे में कैद होती है करतूत फिर भी दलाल नहीं दिखते भयभीत


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-सदर अस्पताल परिसर की हर गतिविधियां सीसीटीवी कैमरे में कैद होती है।इसके बाद भी अस्पताल परिसर में अपनी हरकत से दलाल बाज नहीं आते हैं।यह दोनों क्रम एक-दूसरे से विपरीतार्थक है।अब सवाल उठता है कि सीसीटीवी कैमरा बंद है या फिर कैमरे का फूटेज अधिकारी देखते नहीं। बात तो यह भी कही जाती है कि दलालों की हर हरकत को देख और जानकर भी अस्पताल प्रशासन अंजान बन जाती है। गौरतलब हो कि बिचौलियों का कारनामा सिर्फ अस्पताल के कैमरे में ही कैद नहीं बल्कि जिला प्रशाशन द्वारा अपराध नियंत्रण के लिए लगाए गए कैमरे में भी कैद होती है।बताते चलें कि सदर अस्पताल में बिचौलिया इस कदर सुरसां की भांति मुंह बांये खड़ी रहती है कि लाचार,बेबस,गरीब मरीजों का जीना दुश्वार हो गया है।बिचौलिया द्वारा सदर अस्पताल में इस कदर धांधली की जाती है कि इसका वर्णन नहीं किया जा सकता।थोड़े से पैसे के लिए मरीजों को सदर अस्पताल से ले जा कर निजी क्लिनिक में पहुंचा दिया जाता है इस गोरख धंधे में ज्यादा तर महिलाएं ही शामिल रहती हैं।

सदर अस्पताल को बिचौलिया मुक्त बनाने के लिए युवकों ने किसी कमर
बताते चलें कि दो दिन पूर्व सदर अस्पताल से मरीजों को प्राइवेट क्लिनिक लेकर जाने से रोकने पर अस्पताल परिसर में ही बिचौलिया द्वारा दो अज्ञात युवक को बुलाकर मारपीट कराया गया था।जिसमें एक निजी एम्बुलेंस का चालक बच्चन भी बीच-बचाव में जख्मी हो गया था।इसी बात को लेकर स्थानिए युवकों ने बिचौलिये से सदर अस्पताल को मुक्त करने के लिए कमर कस ली है।

सीएस से शिकायत कर युवकों ने स्वास्थ्य मंत्री से की थी बात
मंगलवार को सुमित कुमार,गुड्डू मियां,पिंकू पांडेय,सुधीर,बच्चन सहित एक दर्जन युवकों ने सिविल सर्जन डॉ. श्याम मोहन दास से सदर अस्पताल को बिचौलियों से मुक्त करने की शिकायत की।साथ ही प्रियंका देवी सहित बिचौलिया का काम कर रही अन्य महिलाओ के बारे में भी शिकायत की।साथ ही युवकों ने स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय से भी बात कर कार्रवाई की मांग की।

कहते हैं सिविल सर्जन
सिविल सर्जन डॉ.श्याम मोहन दास ने बताया कि युवकों द्वारा शिकायत के बाद उपाधीक्षक डॉ.सैयद नौशाद अहमद द्वारा कुछ बिचौलिये को चिन्हित किया गया है साथ ही कुछ असामाजिक तत्वों के भी नाम है जिसे जिलाधिकारी को भेज दिया गया है।

Comments are closed.