शहर में समय पर नहीं होती है नालों की उड़ाही


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:- मॉनसून आने में महज 10 दिन बचे हैं लेकिन नगर परिषद द्वारा अबतक शहर के नालों की सफाई नहीं कि गई है।जिसका नतीजा हल्की बारिश होते ही शहर के चारों ओर दिखने को मिलते हैं।नाले की सफाई समय पर नहीं होने से जल-जमाव की समस्या आये दिन शहर के सड़कों पर गलियों में उत्पन्न हो जाती है जिसका नतीजा लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है।जल-जमाव के कारण लोगों को गंभीर बीमारियों का भी सामना करना पड़ता है।वहीं ठीकेदार द्वारा भी इस कार्य में लापरवाही बरती जाती है और सिर्फ खानापूर्ति कर मोटी राशि की उगाही कर लेते हैं।बताते चलें कि स्वच्छता के नाम पर जमुई के तीसों वार्ड की हालत ऐसी बनी हुई है की बिना बरसात के ही जल-जमाव देखने को मिल रहा है।हल्की बारिश होते ही नाले का गंदा पानी लोगों के घरों में प्रवेश करने लगते है लोग गंदे पानी में घुस कर आने-जाने के लिए मजबूर रहते हैं फिर भी नगर परिषद द्वारा साफ-सफाई व नाले की उड़ाही पर ध्यान नहीं दिया जाता है।आगे बताते चलें कि शहर के तीसों वार्ड की हालत ऐसी है कि कहीं नाले ध्वस्त हो चुके हैं कहीं नाले को लोगों द्वारा भर दिया गया है तो कहीं नाले का निकास नहीं है जिस वजह से हल्की बारिश होते ही नाले का गंदा पानी सड़कों व गलियों में बहने लगता है।

जल-जमाव व गंदगियों से कई बीमारियों का होता है जन्म
बरसात के मौसम में सफाई के आभाव की वजह से सड़क,गली,गड्ढे और नाले में जल-जमाव की वजह से कई गंभीर बीमारियां जन्म लेती हैं।जल-जमाव से मलेरिया,टायफाइड,डायरिया,डेंगू,महामारी सहित कई घातक बेमारियों के घेरे में लोग आ जाते हैं।जिसे दूर करने का एक ही मुख्य वजह है कि कूड़े-कचड़े और नालों की सफाई समय पर किया जाए ताकी जल-जमाव की समस्या उत्पन्न न हो सके।

Comments are closed.