09 लाख 23 हज़ार 390 रुपया नगद व लाखों का लॉटरी सहित तीन गिरफ्तार


रिपोर्ट,मो.अंजुम आलम,जमुई (बिहार)
जमुई:-शहर में सोमवार की देर शाम लॉटरी कारोबारियों पर पुलिस का डंडा चला।कई कारोबारियों के घर व दूकान पर छापेमारी की गई।सदर एसडीपीओ रामपुकार सिंह के नेतृत्व में कारीब दो घंटे तक सघन छापेमारी चली।इस दौरान पुलिस ने अवैध लॉटरी कारोबार से जुड़े तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।साथ ही तीनों के पास से कुल 9 लाख 23 हजार 390 रुपया नगद, लगभग 5 लाख रुपया मूल्य का लॉटरी और चांदी का 6 पीस प्लेट करीब 5 किलो और लॉटरी से सम्बंधित कई कागज़ात व एक मोबाइल भी बरामद किया है।गिरफ्तार कारोबारी की पहचान शहर स्थित कृष्णपट्टी मुहल्ले निवासी स्व:बालदेव सिंह के पुत्र दिलीप सिंह,शंकर प्रसाद का पुत्र रूपेश कुमार और विकास कुमार के रूप में हुई है।

प्रेसवार्ता के दौरान सदर एसडीपीओ रामपुकार सिंह ने बताया कि अवैध लॉटरी के कारोबार की सूचना कई दिनों से मिल रही थी।सूचना के बाद एक छापेमारी टीम गठित किया गया जिसमें खैरा थाना प्रभारी सुदर्शन राम,महिला थानाध्यक्ष ज्ञान भर्ती सहित मलयपुर,बरहट व कई अन्य थानाध्यक्ष व नगर पुलिस को शामिल किया गया।उसके बाद शहर के महाराजगंज तथा कृष्णपट्टी समेत अन्य जगहों पर अवैध लॉटरी का कारोबार करते टीम द्वारा कृष्णपट्टी स्थित मुकेश सिंह के घर में छापेमारी की गई। इस दौरान उसके घर से 5 लाख 41 हजार 220 रुपया एवं लाखों का लाटरी बरामद किया गया। हालांकि मुकेश सिंह भागने में सफल रहा।जबकि संदीप उर्फ संजीव के घर छापेमारी के दौरान 3 लाख 61 हजार रुपया नगद तथा चांदी का 6 पीस प्लेट बरमाद किया गया।संदीप भी पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल रहा।वहीं गिरफ्तार दिलीप के घर से 21 हजार,रुपेश के पास से 20 हजार तथा विकास के पास से 2 हजार नगद व लॉटरी बरामद किया गया।पुलिस ने सभी के घरों को सील कर दिया है।

एसडीपीओ रामपुकार सिंह ने बताया कि अवैध लॉटरी कारोबार का जाल जमुई से मुंगेर जिला तक फैला हुआ है।जमुई में बड़े पैमाने पर करीब 25 वर्षों से यह गोरख धंधा फलफूल रहा था।इस मामले में और भी कई लोगों की शिनाख्त की जा चुकी है।जल्द ही सभी कारोबारियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।गिरफ्तार लोगों से पूछताछ की जा रही है।और भी कई लोगों का नाम आया है।जांच की जा रही है।

Comments are closed.