दो दिन पहले ड्यूटी पर लौटने वाले तिलक राज भी हुए शहिद

google image

शिमला: जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले में शहीद होने वालों में हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के कांस्टेबल तिलक राज भी शामिल हैं। राज्य सरकार ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने कहा कि गुरुवार को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले में 45 जवान शहीद हुए हैं जबकि 38 अन्य घायल हुए हैं।

राज अप्रैल 2007 में अर्धसैनिक बल में शामिल हुए थे। वह अपने पीछे पत्नी सावित्री देवी और 22 वर्षीय बेटे को छोड़ गए हैं।

छुट्टी के बाद दो दिन पहले वह ड्यूटी पर लौटे थे।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कायरतापूर्ण हमले की निंदा की और परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए अपने कैबिनेट मंत्री किशन कपूर और विधायक अर्जुन सिंह को शहीद के घर भेजा है।

भारतीय जनता पार्टी के विधायक दल ने राज्य की राजधानी में गुरुवार रात एक रात्रिभोज रद्द कर दिया। शहीदों के सम्मान में दो मिनट का मौन रखा गया।

इस घटना को बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और आतंकवादियों द्वारा कायराना कृत्य करार देते हुए ठाकुर ने कहा कि घटना में शामिल लोगों बख्शा नहीं जाएगा।

Comments are closed.