कश्मीर को लेकर उर्मिला मातोंडकर ने जताई चिंता


आर.पी.मौर्या संवाददाता
मुंबई। अभिनेत्री से नेता बनीं उर्मिला मातोंडकर ने अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी किए जाने पर केंद्र पर निशाना साधा है और अनुछेद 370 को हटाने के तरीके को अमानवीय करार दिया है। उर्मिला ने कहा कि उनके पति पिछले 22 दिनों से कश्मीर में रह रहे अपने माता-पिता से बात नहीं कर पाए हैं। सवाल केवल अनुच्छेद 370 हटाने का नहीं है। यह अमानवीय तरीके से किया गया है। उर्मिला मातोंडकर ने कहा कि मेरे सास-ससुर वहां रहते हैं। दोनों को मधुमेह है, उच्च रक्त चाप की दिक्कत है। आज 22वां दिन है, न तो मैं और न ही मेरे पति उनसे बात कर पाए हैं। हमें कोई अंदाजा नहीं है कि क्या उनके पास घर में दवाएं उपलब्ध हैं या नहीं।

बता दें कि केंद्र सरकार ने इसी महीने की शुरुआत में जम्मू-कश्मीर की स्वायत्तता को खत्म कर दिया था और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया था। राज्य के विशेष दर्जा के खत्म का मतलब था कि वहां के लोग संपत्ति, सरकारी नौकरियों और कॉलेज की सीटों पर विशेष अधिकार खो देंगे और उन्हें भी वैसा ही अधिकार होगा जैसा देश के दूसरे राज्यों के लोगों का जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से सरकार घाटी के हालात पर लगातार नजर बनाई हुई है। कश्मीर में स्कूल खोल दिए गए हैं, हालांकि छात्र अभी ज्यादा संख्या में स्कूल नहीं पहुंच रहे हैं। वहीं इंटरनेट पर अभी भी रोक लगी हुई है।

Comments are closed.