वीडियोकॉन पर 90000 करोड़ का कर्ज


न्यूज एजेंसी ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से गुरुवार को यह जानकारी दी है कि वीडियोकॉन ग्रुप पर बैंकों और दूसरे कर्जदाताओं के 90,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। भारतीय बैंकिंग के इतिहास में यह कॉरपोरेट बैंकरप्सी का सबसे बड़ा मामला हो सकता है।
वीडियोकॉन समूह की 2 प्रमुख कंपनियों वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड (वीआईएल) और वीडियोकॉन टेलीकम्युनिकेशन लिमिटेड (वीटीएल) पर एसबीआई समेत अन्य बैंकों का 59,451.87 करोड़ रुपए और 26,673.81 करोड़ रुपए का कर्ज है।
इसके अलावा 731 ऑपरेशनल क्रेडिटर्स (सप्लायर्स) की बकाया राशि अलग है। वीआईएल पर ऑपरेशनल क्रेडिटर्स के 3111 करोड़ 79 लाख 71 हजार 29 रुपए बाकी हैं। जबकि वीटीएल पर 1266 करोड़ 99 लाख 78 हजार 507 रुपए बाकी हैं।

वीडियोकॉन द्वारा लोन चुकाने में डिफॉल्ट करने पर पिछले साल एसबीआई ने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में दिवालिया प्रक्रिया शुरू करवाई थी। इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) के नियमों के मुताबिक कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर सस्पेंड कर दिए गए।
आईसीआईसीआई बैंक के वीआईएल पर 3,318.08 करोड़ और वीटीएल पर 1,439 करोड़ रुपए बकाया हैं। वीडियोकॉन को लोन मामले में सीबीआई ने इस साल जनवरी में आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर, वीडियोकॉन ग्रुप के प्रमोटर वेणुगोपाल धूत और अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। चंदा कोचर पर भेदभाव के आरोप लगे हैं।

Comments are closed.