विजय माल्या ने सरकार पर भेदभाव का लगाया आरोप


विजय माल्‍या ने फिर ट्विट कर जेट एयरवेज के डूबने को लेकर सहानुभूति जताई है और ट्विट कर कहा कि हालांकि हम लोग प्रतियोगी थे लेकिन मेरी सहानुभूति नरेश और नीता गोयल के साथ है जिन्होंने जेट एयरवेज को बनाया जिस पर भारत गर्व महसूस कर सकता है। जेट एयलाइन बेहतर कन्क्टिविटी और क्लास सर्विस देती आई है।

विजय माल्या ने बुधवार सुबह अपने ट्विटर हैंडल से एक के बाद एक चार ट्वीट किए और कहा कि ‘मैं अपने प्रस्ताव को फिर से दोहराता हूं कि बैंकों का पूरा कर्ज चुका दूंगा। लेकिन, बैंक और सरकार जेट एयरवेज की मदद क्यों नहीं कर रही हैं। मैं चाहे लंदन में राहु या भारतीय जेल में पैसा लौटाने को तैयार हूं। भले ही जेट और किंगफिशर एक दूसरे के कॉम्पिटिटर थे, लेकिन एक बड़ी प्राइवेट एयरलाइन को असफलता के कगार पर देखकर दुख हुआ है ।
आपको बता दें कि विजय माल्या पर भारतीय बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। मार्च 2016 में वह लंदन भाग गया। वहां की निचली अदालत और गृह विभाग माल्या के प्रत्यर्पण की मंजूरी दे चुके हैं। प्रत्यर्पण के खिलाफ माल्या की पहली अपील को हाईकोर्ट खारिज कर चुका है। भारत की विशेष अदालत (पीएलएलए) माल्या को भगोड़ा घोषित कर चुकी है।

Comments are closed.